Breaking News
Home / breaking / टोना टोटका और वास्तु दोष की राजनीति

टोना टोटका और वास्तु दोष की राजनीति

 

 

न्यूज नजर : मानव में जन्मजात भय की मनोवृत्ति होती है और वहम इसे हवा दे कर बेहाल बना देता है। भय और वहम मिलकर हर उस घटनाक्रम को हमारे साथ जोड़ देता है जो हमारे अनुकूल नहीं हो रहा है।

भंवरलाल
ज्योतिषाचार्य एवं संस्थापक,
जोगणिया धाम पुष्कर

अनुकूल और सार्थक प्रयास करने के बावजूद भी हमें किसी भी कार्य में सफलता नहीं मिल रही है तो वहम हमें बार-बार उस ओर धकेलने लग जाता है कि किसी ने कुछ कर तो नहीं दिया है तथा किसी अन्य को हम जब यह बात बताते हैं तो वो व्यक्ति भूत प्रेत टोने टोट तथा आत्मा के दोषों की उन अनगिनत कहानियों को सुना कर हमे भयभीत कर देता है और ना चाहते हुए भी हम उस अदृश्य शक्ति के दोषों को दूर करने के उपाय करने लग जाते हैं। परम्परा वादी परिवार ही नहीं आधुनिक परिवार भी इसमें फस जाता है।
हमारे धर्म ग्रंथ की विचारधारा आस्था और मान्यताएं भी कुछ इस ओर ले जातीं हैं। महाभारत के महायुद्ध में श्री कृष्ण जी अर्जुन को कहते हैं कि —
हे अर्जुन! जब यह जीवात्मा सत्वगुण की वृद्धि में मृत्यु को प्राप्त होता है, तब तो उत्तम कर्म करने वालों के मल रहित अर्थात दिव्य स्वर्गादि लोकों को प्राप्त होता है। रजोगुण के बढ़ने पर , अर्थात् जिस काल में रजोगुण बढता है उस काल में मृत्यु को प्राप्त होकर, कर्मों की आसक्ति वाले मनुष्यों में उत्पन्न होता है तथा तमोगुण के बढ़ने पर मरा हुआ पुरूष कीट, पशु आदि मूढ योनियों में उत्पन्न होता हैं।

गरुड़ पुराण के अनुसार व्यक्ति की मृत्यु होने पर उसके क्रिया कर्म दस दिन तक नियमानुसार न होने पर तथा ग्यारहवें और बारहवें दिन का कर्म न होने पर व्यक्ति प्रेत योनि से चला जाता है। जहां भी मृत्यु होती है वहीं पिंड दान करना चाहिये। नियमानुसार क्रिया कर्म करने पर व्यक्ति की आत्मा को सदगति की ओर जाती है। अन्यथा वह व्यक्ति प्रेत योनि में जाकर अपने परायों को परेशान करती है।आत्महत्या करने वाले व्यक्तियों की नारायण बलि का प्रावधान है तभी वह सदगति की और अग्रसर होता है।


यदि गरुड़ पुराण की इस बात को स्वीकार कर ली जाए तो स्वतःही भूत-प्रेत, टोना-टोटका का अस्तित्व समझ में आ जायेगा। वास्तु सिद्धांतों के अनुसार वास्तु पुरुष पर 32 देवता बैठे हुये तथा चारों ओर पिशाची शक्तियां बैठी हुई हैं।
हमारे धार्मिक ग्रंथों ने, पुराणों ने,भूत प्रेत, राक्षस पिशाच,जादू टोना टोटका इन सबका अस्तिव स्वीकार किया है तथा इनसे ग्रसित होने पर इनका उपचार भी इन्हीं धार्मिक ग्रंथों में उपलब्ध है।
आदि ऋषियों में अपने आत्म ज्ञान के बलबूते पर प्राच्य विद्याओं के जो सिद्धांत खड़े किये हैं वे मन गढन्त या मात्र कोई कल्पना ही नहीं है। आज का विज्ञान और वैज्ञानिक उन्हीं सिद्धांतों की पुष्टि कर रहा है। हमारे ऋषिमुनियों ने हजारों वर्ष पूर्व ब्रह्माण्ड की तारा राशियों कीआकृतिग्रह नक्षत्र तारे तथा मानव जीवन पर पड़ने वाले प्रभावों की जानकारी दे दी थी। उनकी पुष्टि आज वैसे ही हो रही है।अतः उनके महत्वपूर्ण योगदान को नकारा नहीं जा सकता है।
यदि हम धार्मिक ग्रंथों को स्वीकारते है तो उसमें वर्णित विषय वस्तु को भी स्वीकारना पड़ेगा जबकि आधुनिक विज्ञान भूत प्रेत, पिशाच, जादू ,टोना, टोटका को नकारते हुये इसे अंध विश्वास मानता है। सत्य क्या है, इसका फैसला समय करता है तथा वहीं व्यक्ति को स्वीकारना पड़ता है।

किसी कार्य को प्रारम्भ करते समय या कही जाते समय छींक का आना,बिल्ली का रास्ता काटना, कुत्ते का कान फड़फड़ाना आदि जैसे अपशकुन आज भी अपना अस्तित्व बनाये हुये है। व्यक्ति बाहरी नहीं तो आन्तरिक रूप से कुछ ना कुछ सीमा तक तो उसे अपने मन से नहीं निकाल पाता है।

वास्तुशास्त्रीय दृष्टिकोण से भूत-प्रेत ,जादू टोना-टोटका, देवदोष पितृदोष आदि के लिए नैऋत्य दिशा का अपना एक विशेष योगदान होता है। संपूर्ण वास्तु में नैऋत्य दिशा का महत्वपूर्ण स्थान होता है, इस क्षेत्र में समस्त प्राण ऊर्जाएं ईशान कोण से आकर एकत्र होती है। इस दिशा को मजबूत ऊँचा और भारी रखने के दिशा निर्देश देते है वास्तु शास्त्र के सिद्धांत। इस दिशा में खिड़की दरवाजे, खड्डे, कुआ बावड़ी तालाब इत्यादि न रखें अन्यथा नैऋत्य दिशा से आने वाली प्राण घातक ऊर्जाएं वास्तु में प्रवेश कर जायेगी तथा उस वास्तु तथा उसमें रहने वालों को मृत्युतुल्य कष्ट प्रदान करेगी।

इस प्रकार से ईशान से आने वाली शुभ ऊर्जा को नैऋत्य में एकत्र करने देनी चाहिये तथा नैऋत्य से आने वाली अशुभ ऊर्जा को अंदर प्रवेश नहीं करनी चाहिये और ना ही उसे एकत्र करने हेतु खड्डे व पानी के टैंक यहां बनाने चाहिये।
वास्तु हेतु चयनित भूखंड किसी भी स्थिति में नैऋत्य दिशा में बढ़ा हुआ या कटा हुआ नही होना चाहिये अन्यथा अशुभ शक्तियों (ऊर्जाओं) के प्रभाव वास्तु को प्रभावित करने लग जायेंगे ओर फलस्वरूप उस वास्तु में अनहोनी घटनाएं होने की दर बढ़ती रहेगी।इस कोण में में पित्तरो की उपस्थिति इस दोष को दूर करने में सहायक होती है।

वायव्य कोण भी प्रेत आत्माओं को आमंत्रित करता है तथा उनकी कमी या दोष के कारण, गलत निर्माण के कारण तरह-तरह की आवाजे सुनाई दे सकती है। अतः घर में पराशक्तियों ओर आत्मा को आकर्षित करने में वायव्य कोण की प्रमुख भूमिका होती है। जिस प्रकार एक आम मान्यता है कि बच्चे को नजर लग जाती है, चंद्रमा की कमी के कारण।इस कारण बच्चे की नजर उतारने के तंत्र बने हुये है। चांदी का चंद्रमा बच्चे के गले में पहनाया जाता है।

पराशक्ति,आत्माओं को आमंत्रित करने का कार्य वायव्य कोण करता है। यदि वायव्य कोण में नियम विरुद्ध निर्माण हो, वायव्य कोण बढ़ा हुआ या घटा हुआ हो तो वहां मृत आत्माएं अपना अस्तित्व जमा सकती है। इस क्षेत्र में सीढियां, तलघर, पानी का टैंक, तरण ताल, शौचालय, सेप्टिक टैंक इत्यादि नहीं होने चाहिये तथा ना ही स्थान गंदा होना चाहिये। पुराने, बर्तन, कपड़े का सामान यहां नहीं होना चाहिये।

इस कोण का कारण चंद्रमा होता है । यदि चन्द्रमा की स्थिति ठीक न हो तो तुरंत दृष्टि दोष या बुरी आत्माओं का प्रभाव उस वास्तु पर हो जाता है तथा उस वास्तु में रहने वाले कुछ व्यक्ति पर जिनका चंद्रमा कमजोर होता है उसे फिटस(चेडे) आने लग जाते हैं। घर में ऐसा लगने लगता है कि कोई साया इधर से उधर घूमता रहता है, कई अजनबी एवं अनजानी घटनाएं घर में करने लगती है।

संत जन कहते हैं कि हे मानव टोना टोटका भूत प्रेत और वास्तु दोष धर्म व संस्कृति की मान्यता और विश्वास है जो आज भी आधुनिक विज्ञान को अंगूठा दिखाती है। समाज का एक बडा तबका आज भी इन सब बातों पर विश्वास करता है। इन सब के उपायों से लाभ मिलता है या नहीं मिलता बस एक ही विचारणीय प्रश्न बन जाता है। जमीनी स्तर पर आज भी हमारे देश में अत्याचार धार्मिक विवाद आतंकवाद बलात्कार जैसी भारी समस्याएं विद्यमान हैं। क्या इन सब के मूल में भी भूत प्रेत टोटके टोना वास्तु दोष विद्यमान है, क्या इनके उपाय इन शास्त्रों में नहीं है।
इसलिए हे मानव तू भय के भूत और वहम के टोने टोटके को दिल से हटा और आत्मबल मजबूत कर, अपने कार्य को बखूबी से अंजाम दे, वास्तु दोष स्वत ही दूर हो जायेंगे।

Previous भाजपा की पहली सूची में एक भी मुस्लिम को टिकट नहीं, यहां देखें लिस्ट
Next आज फिर सस्ता हुआ पेट्रोल-डीजल, अब कितना हुआ रेट

Check Also

राहुल की रैली से लौट रहे कार्यकर्ताओं से भरी बस पलटी

  रामनगर। देहरादून में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की रैली से लौटकर वापस आ रहे कांग्रेसी …