Breaking News
Home / breaking / 8 देशों की तकनीक से बना है कोटा का हैंगिंग ब्रिज, जानें खासियतें

8 देशों की तकनीक से बना है कोटा का हैंगिंग ब्रिज, जानें खासियतें


कोटा/उदयपुर। उदयपुर से मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोटा के हैंगिंग ब्रिज का उद्घाटन किया। एक ही दिन में मोदी ने 15,000 करोड़ रुपए की योजनाओं की शुरुआत की। कोटा में चम्बल नदी पर राष्ट्रीय राजमार्ग 27 पर 277.67 करोड़ की लागत से बना यह 6 लेन हैंगिंग ब्रिज है। इस ब्रिज की वजह से शहर में भारी वाहनों का प्रवेश बंद हो जाएगा। शहर में हर साल औसतन 125 मौतें एक्सीडेंट में होती हैं जिसमें से करीब 50 मौतें भारी वाहनों के कारण होती हैं।

ये हैं खासियतें

हैंगिंग ब्रिज 1.4 किमी लम्बा है। इसकी चौड़ाई 30 मीटर है। 6 लेन ब्रिज पर 1.6 मीटर का फुटपाथ भी बनाया गया है। हैंगिंग ब्रिज चम्बल नदी से 60 मीटर की उंचाई पर है। यह 80 केबिलों पर टिका हुआ है। 41 मीटर सबसे छोटा केबल तथा 192 मीटर सबसे बड़ा केबल है। इस ब्रिज के निर्माण में आठ देशों भारत, फ्रांस, अमेरिका, डेनमार्क, दक्षिण कोरिया, इटली, जापान एवं यूक्रेन की तकनीकी एवं अनुभव को काम लिया गया है। देश का यह तीसरा हैंगिंग ब्रिज है।


16 किलोमीटर का चक्कर बचेगा

जयपुर से बारां जाने वाले वाहन अभी बड़गांव से चंबल ब्रिज, घंटाघर चौराहा होते हुए जाते हैं, अब इस पुल की मदद से वाहन हैंगिंग ब्रिज से होकर बाईपास से बारां जा सकेंगे। चित्तौड़-उदयपुर से बारां व झालावाड़ जाने वाले वाहनों शहर के भीतर आने की बजाय हैंगिंग ब्रिज से होकर निकल जाएंगे। रावतभाटा से झालावाड़ रोड जाने के लिए चंबल ब्रिज तक का 16 किमी लंबा चक्कर नहीं लगाना होगा।

15000 करोड़ की परियोजनाएं

प्रधानमंत्री मोदी ने आज उदयपुर से देशवासियों को महत्वपूर्ण सड़क योजनाओं का तोहफा भेंट किया। मोदी ने सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की पंद्रह हजार एक सौ करोड़ रुपए की परियोजना के शिलान्यास और लोकार्पण किए।

उन्होंने कहा कि हाल ही राजस्थान में भीषण बाढ़ आई, मैंने खुद यहां पर आकर इसका जायजा लिया था। भारत सरकार संकट की घड़ी में राज्य सरकार के साथ खड़ी है।
एक ही कार्यक्रम में 15,000 करोड़ रुपए की योजनाओं की शुरुआत होना एक बड़ी घटना है। योजनाओं की घोषणा करना, चुनाव के समय अलग-अलग तरह की बातें करना, अखबारों में बड़ी-बड़ी फोटो छपवाना ऐसे खेल देश ने पहले भी देखे हैं, कई सालों से यही चल रहा था।300 करोड़ से भी कम के बजट का काम 11 साल तक रुका हुआ था। हमने एक साथ 9000 करोड़ रुपए का काम शुरू किया।
मोदी ने कहा कि राजस्थान की सड़कों में पैसा उगलने की ताकत है. दुनियाभर के लोग राजस्थान में आना चाहते हैं, इसके लिए हमें अच्छा इन्फ्रास्ट्रकचर चाहिए. मोदी ने कहा कि टूरिज्म की वजह से फूल बेचने वाले, काम करने वाला और चाय बेचने वाले को भी फायदा होता है।

ये भी थे मौजूद

इससे पहले उदयपुर के डबोक हवाई अड्डे राज्यपाल कल्याण सिंह, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और वरिष्ठ अधिकारियों ने प्रधानमंत्री की अगवानी की। मोदी के साथ सड़क परिवहन, राज मार्ग एवं पोत परिवहन मंत्री नितिन गडकरी भी उदयपुर आए। कार्यक्रम स्थल पर पहुंचने पर प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय राज मार्ग की ओर से लगायी गयी प्रदर्शनी का अवलोकन किया। मंच पर पहुंचने पर सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़, केन्द्रीय वित्त राज्य मंत्री अर्जुन मेघवाल, केन्द्रीय मंत्री पी पी चौधरी तथा राजे मंत्रिमंडल के सदस्यों ने उनका स्वागत किया। मोदी बारिश के बीच कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे।

Check Also

श्री नामदेव भवन में रमेगा गरबा, मातारानी की भक्ति में झूमेंगे समाजबन्धु

नामदेव न्यूज डॉट कॉम अजमेर। भीलवाड़ा की संजय कॉलोनी, विद्युत नगर स्थित श्री नामदेव भवन …